घरों में ईद-उल-फितर की नमाज के साथ देश की तरक्की की खुसूसी दुआ करें-रचना हुसैन



रवींद्र त्रिपाठी, वतन की कसम :फतेहपुर,23 मई।कोविड-19 महामारी के संकट काल में समाज के जरूरत मंदों को अपनी सहानुभूति व सहायता देकर समाज में अपना एक विशेष मुकाम हासिल करने वाली समाज सेविका रचना हुसैन ने संक्रमण काल में ईद न मनाते का ऐतिहासिक निर्णय लेकर.यह साबित कर दिया कि देश से अधिक कुछ नहीं है।
रचना हुसैन ने अपने समाज के लोगों से अपील किया है कि देश कोरोना महामारी के संकट से जूझ रहा है ऐसे सबको देश के लिए खडा होना है।मुझे मालूम है कि हमारे गरीब मुस्लिम भाईयों को इस लाँकडाउन के दौरान काफी कठिनाईयां हुई हैं।हमारे गरीब भाई बहनों व बच्चों को भूख प्यास का भी सामना करना पडा है।
मुस्लिम भाई ईद पर बाजारों में खरीदारी से बचने का प्रयास करें।
और बाजारों में जाकर भीड न लगाएं।
जिस तरह से इस पूरे माह-ए-ऱमजान में सब्र-ओ-तहम्मुल से काम लिया है उसी तरह से सादगी के साथ ईद भी मनाएं।ईद के दिन भी अलविदा की नमाज की तरह ईद-उल-फितर की भी नमाज़ घरों में अदा करें और जानलेवा कोरोना महामारी के देश से खात्मे के लिए और देश व समाज की तरक्की की खुसूसी दुआ करें।

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां