विशिष्ट पोस्ट

अनियमितताओं के तहत रठिगवां की उचित दर दुकान निलम्बित


रवींद्र त्रिपाठी, वतन की कसम: घाटमपुर कानपुर 22 मई। विकासखंड पतारा के ग्राम रठिगवां की उचित दर दुकान को अनियमितताओं के पाए जाने पर जिला पूर्ति अधिकारी कानपुर ने निलंबित कर दिया है। ग्रामीणों की शिकायत पर राशन की दुकान की जांच पूर्ति निरीक्षक घाटमपुर को दी गई थी। प्राप्त जानकारी के अनुसार घाटमपुर तहसील के विकासखंड पतारा के गांव रठिगवां में श्रीमती कुशमा देवी उचित दर दुकान की विक्रेता है जिनके विरुद्ध रठिगवां गांव के ग्रामीणों ने शिकायती पत्र दिया था। गांव के रामचरण, गया प्रसाद, श्री किशन, तिवारी ,दयाशंकर, अनवर ,आलोक पांडे सहित अनेकों ग्रामीणों ने संयुक्त प्रार्थना पत्र में विक्रेता श्रीमती कुशमा देवी पर अनेक आरोप लगाए थे ।ग्रामीणों द्वारा लगाए गए आरोपों को गंभीरता से लेते हुए जिला पूर्ति अधिकारी कानपुर नगर ने घाटमपुर के पूर्ति निरीक्षक को इसकी जांच सौंपी। पूर्ति निरीक्षक घाटमपुर ने अपनी जांच रिपोर्ट में बताया कि जब वह ग्राम रठिगवां की उचित दर दुकान पहुंचे तो दुकान बंद थी। विक्रेता ने दुकान बंद करने का उचित कारण भी सूचना पट पर प्रदर्शित नहीं किया था।
 पूर्ति निरीक्षक द्वारा दी गई रिपोर्ट के अनुसार जब विक्रेता श्रीमती कुसमा देवी से मोबाइल पर संपर्क करने की कोशिश की गई तो संपर्क नहीं हो पाया ।दुकान पर लगा सूचना पट्ट बहुत जर्जर था। सूचना पट्ट में स्टाक व टोल फ्री नंबर भी नहीं था। अंत्योदय एवं पात्र गृहस्थी परिवारों की सूची भी दीवार में प्रदर्शित नहीं की गई थी। दुकान बंद होने के कारण स्टॉक का सत्यापन नहीं हो सका।
 पूर्ति निरीक्षक ने बताया कि शिकायत कर्ताओं व अन्य कार्ड धारकों से संपर्क कर विस्तृत पूछताछ की गई और उनके बयान भी दर्ज किए गए। 30 कार्य धारकों के बयान के आधार पर यूनिट के सापेक्ष राशन का वितरण न किया जाना ,निर्धारित मूल्य से ज्यादा लिया जाना, कुछ कार्ड धारकों को उनके अधिकार से वंचित रखना, सूचना में स्टाफ और टोल फ्री नंबर का उल्लेख न किया जाना, अंत्योदय पात्र गृहस्थी कार्ड धारकों की सूची का प्रदर्शन न किए जाने जैसे गंभीर अनियमितताएं पाई गई। जिसके आधार पर पूर्ति निरीक्षक ने अपनी जांच आख्या जिला पूर्ति अधिकारी कानपुर नगर को दी। जिला पूर्ति अधिकारी ने बताया कि प्राप्त जांच रिपोर्ट के अनुसार राशन दुकान विक्रेता श्रीमती कुसुमा देवी पर ग्रामीणों द्वारा लगाए आरोपों में प्रथम दृष्टया अनियमितताएं दृष्टिगोचर हुई। जिसके अनुसार उत्तर प्रदेश अनुसूचित वस्तु वितरण आदेश 2004 के अधीन अनुबंध पत्र की शर्तों का उल्लंघन पाए जाने में श्रीमती कुसमा देवी विक्रेता उचित दर दुकान का अनुबंध पत्र तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया गया है और विक्रेता को निर्देशित किया गया है कि समय अवधि में वह  ग्रामीणों द्वारा लगाए गए आरोपों के सुसंगत साक्ष्यों के सहित स्पष्टीकरण दें। अन्यथा उनकी दुकान निरस्त कर दी जाएगी।

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां