जंगल में मिला लावारिस शिशु: मुस्लिम दम्पत्ति ने अपनाया



लावारिस नवजात शिशु( ऊपर),आपस में बहस करती दो समुदाय की महिलाएं

फतेहपुर, 02 दिसम्बर। बिंदकी थाना क्षेत्र के महमूदपुर गांव के नहर के पास सोमवार को  एक नवजात शिशु झूले में पढ़ा हुआ मिला। ग्रामीणों को जैसे ही इसकी भनक लगी एकत्र होने लगे। पिपरी के एक मुस्लिम ने उसे अपना लिया इसे लोग हिन्दू मुस्लिम एकता के प्रतीक के रूप में चर्चा कर रहे हैं।
आज सोमवार कि सुबह लगभग 10:00 बजे महमूदपुर मजरे पिपरी नहर के किनारे एक नवजात शिशु झूले में पढ़ा हुआ था। जिसकी सूचना मिलने पर आसपास के लोग इकट्ठे होने लगे और आपस में चर्चा होने लगी कि पता नहीं किसने इतने सुंदर मासूम बच्चे को जंगल में  छोड़ दिया है लोग इसे नाजायज संबंधों से भी जोड़ रहे हैं।

जानकारी के अनुसार बच्चे को देखने के लिए जमील भी मौजूद उसने इस बच्चे को लेने की मंशा जाहिर की गोद में उठा लिया पालन पोषण करेगा जमील ने बताया कि बच्चे को लेकर आ गया है और अपने छोटे भाई बचूली को दे दिया है दे दिया है। जिसकी कोई संतान नहीं है वह इसका पालन पोषण अपने बच्चे की तरह करेगा और इसके भविष्य के प्रति जिम्मेदार रहेगा। ग्रामीणों ने जमील के साहस को चढ़ाते हुए बच्चे के लिए शुभकामनाएं दी है।  ग्राम प्रधान के पिता शिव बालक ने बताया कि बच्चा बहुत ही सुंदर था और किसी अच्छे परिवार का दिखाई देता है किंतु पता नहीं वह कैसी मां है जो बच्चे को जन्म के बाद जंगल में जंगल में लावारिस छोड़ दिया है।
----------------------------------------
लावारिस मिले नवजात को लेकर दो समुदाय  भिडे :पुलिस ने चाइल्ड हेल्प लाइन भेजा
-------------------------------------
फतेहपुर,2 दिसम्बर। बिन्दकी थाना क्षेत्र के गांव महमूदपुर के राजबहे के पास आज सुबह लावारिस मिले नवजात को लेकर दो समुदायों के बीच उस समय तनाव पैदा हो गया, जब उसे पालने के लिये एक समुदाय का दम्पत्ति ले गया।
दोनों पक्ष बिन्दकी थाना पहुंच गए और लावारिस नवजात शिशु पर अधिकार जताने लगे।
मामला तूल पकड़ता देख थाना प्रभारी निरीक्षक ने चाइल्ड हेल्प लाइन को बुलाकर नवजात को सौप दिया।
 प्राप्त जानकारी के अनुसार बिंदकी थाना क्षेत्र के ग्राम महमूदपुर राजबहा के पास आज सुबह एक लावारिस नवजात शिशु पडा मिला। जिसकी सूचना पर महमूदपुर और पिपरी गांव के लोग वहां पहुंच गए और पिपरी गांव का एक मुस्लिम दंपति उसे पालन पोषण करने के लिए घर ले गया ।इस बात का पता जब दूसरे समुदाय के कुछ लोगों को चला तो उन्होंने उससे बच्चा हिंदू समुदाय को देने के लिए कहा। जब वह तैयार नहीं हुआ तो दोनों पक्षों के बीच हंगामा शुरु हो गया। यह हंगामा होते होते बिंदकी थाने में दोनों समुदाय के लोग पहुंच गये। जहां थानाध्यक्ष बिंदकी ने दो समुदाय के बीच हो रहे हंगामे को गम्भीरता से लेते हुए फतेहपुर चाइल्ड हेल्पलाइन को खबर देदी। चाइल्ड हेल्पलाइन के प्रभारी आशीष कुमार ने आकर बच्चे को अपनी सुपुर्दगी में ले लिया और हेल्पलाइन लेकर चले गए ।
इस बीच दोनों पक्षों के बीच बच्चे को गोद लेने के लिए हंगामा होता रहा।फिलहाल नवजात को लेकर दोनों समुदायों के बीच रस्साकशी चल रही है।
मालूम हो कि सुबह लगभग दस बजे जब यह नवजात शिशु पडा मिला तो वहाँ मौजूद पिपरी मजरे महमूदपुर निवासी जमील उसे पालने के लिए लेगया। जमील के छोटे भाई के कोई संतान नही थी तो उसे संतान प्राप्ति कि अवसर था। इस बात को कुछ लोगों ने तूल दे दिया और हंगामा शुरू कर दिया।

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां