सत्ताधारी नेताओं के संरक्षण में अवैध पीली बालू का हो रहा है खनन



फतेहपुर, 2 दिसम्बर। यमुना नदी पर जिलाधिकारी द्वारा मास्टर प्लान लागू किए जाने के बाद अब खनन माफियाओं ने गंगा की ओर रुक कर लिया है और जिले की गंगा सीमा पर अवैध बालू खनन का काम शुरू कर दिया है ।अवैध रूप से पीली बालू की खनन को लेकर जिला प्रशासन अनजान बना हुआ है ।
प्राप्त समाचार के अनुसार गंगा किनारे बसे कल्याणपुर थाना क्षेत्र के भाऊपुर वाह जहानाबाद थाना क्षेत्र के कुली हार ,मलवां थाना क्षेत्र के मैदानी इलाका , हुसैनगंज थाना क्षेत्र पीली बालू खनन माफियाओं के के लिए स्वर्ग बने हुए हैं। यहां दिन-रात बिना किसी रोक-टोक के पोकलैंड मशीने शोर मचाती रहती हैं ।
बताया गया है कि खनन विभाग इन खनन माफियाओं के आगे नतमस्तक है ।क्योंकि इन खनन माफियाओं की पकड़ सत्ता के बड़े नेताओं से हैं ।बात करते हैं  मजरे सराय यहां तीन पोकलैंड मशीन , काफी मात्रा में डाला डंपर लगे हुए हैं।
 अब सवाल यह उठता है कि यह खनन माफिया किसके संरक्षण में खनन करवा रहे हैं। इस संबंध में कुछ सूत्रों का कहना है कि फतेहपुर जनपद में खनन माफियाओं को जिले के ही प्रदेश के दो मंत्रियों का वरदहस्त प्राप्त है ।
सूत्रों का यहां तक कहना है कि यह दोनों मंत्री खनन के बराबर के हिस्सेदार भी है। यही वजह है कि जिला प्रशासन जानते हुए भी अनजान बनने का नाटक कर रहा है। थाना कल्याणपुर क्षेत्र के भाऊ पुर की गंगा तलहटी में जो खनन माफिया सक्रिय है। उसका खनन का कुछ अंदाज ही अलग है ।यह खनन माफिया रातों-रात सैकड़ों डंपर पीली बालू का खनन करा लेता है ।इसके बाद दो-तीन दिन तक के लिए शांत बैठ जाता है। इसके बाद फिर इसी प्रक्रिया के द्वारा पीली बालू खनन करके करोड़ों रुपया कमाई कर रहा है। प्राप्त जानकारी के अनुसार गंगा तलहटी के लगभग एक दर्जन स्थान है ,जहां से बालू खनन का अवैध व्यापार किया जा रहा है।

          इस संदर्भ में जब खनन विभाग से जानकारी चाही गई तो तो बताया गया कि उनके जानकारी में अभी तक यह मामला नहीं आया है ।अगर कोई जानकारी प्राप्तहोती है तो खनन माफियाओं के खिलाफ कार्यवाही सुनिश्चित  की जायेगी । जिलाधिकारी कार्यालय सूत्रों का कहना है कि कतिपय समाचार पत्रों में खनन की खबरें प्रकाशित हुई है। जिनको संज्ञान में लेकर जांच कराई जाएगी और किसी भी हालत में खनन माफियाओं को बख्शा नहीं जाएगा। भले ही उन्हें प्रदेश नहीं ही देश के मंत्रियों का संरक्षण हो।v

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां