बकेश्वर धाम में जुटा श्रद्धालुओं का सैलाब


                   लटेश्वर धाम में चढ़ाई गई जोडियां

(रवीन्र्द त्रिपाठी)

फतेहपुर,12 नवंबर।कार्तिक पूर्णिमा के मौके पर आज बकेश्वर
धाम में श्रद्धालुओं का जमघट लगा।अपनी मान मनौतीयों के अनुसार भक्तों ने जोडियां चढाई और पूजा अर्चना की।कई लोगों ने मनौतियां पूरी हो जाने पर नृत्यांगनाओं के नृत्य का आयोजन किया।
बकेवर कस्बे की अस्मिता से जुड़े बाबा बकेश्वर धाम में हर वर्ष कार्तिक पूर्णिमा पर श्रद्धालुओं का मेला लगता है और हजारों की संख्या में जोडियां चढ़ाई जाती हैं।कर्ण छेदन ,मुण्डन संस्कार अपने बच्चों का करातें  हैं।बच्चों की
नौकरी, मुकदमे में विजय, संतान की प्राप्ति की कामना, सुख समृद्धि ,वाहन सुख की कामना को लेकर बाबा के दरबार में आते है और शिव जी की प्रति मूर्ति जोडियां चढ़ा कर धरन यानी मनौतियां मानते हैं । मनौती पूर्ण होने पर बाबा के दरबार में नृत्यांगनाओं का नृत्य कराते हैं। बताते है कि बाबाजी नृत्य कराने से अति प्रशन्न होते हैं।
कार्तिक पूर्णिमा का मेँला  कई शताब्दी पूर्व से लगता आ रहा है। आसपास के जनपदों से ही नहीं बल्कि कई प्रदेश से बाबा के भक्त आकर पूजा अर्चना के साथ जोडियों को बाबा के दरबार में चढाते हैं।
जोडियां बनाने वाले कुम्हार आज के दिन  सुबह से ही अपनी दुकानें  लगा कर अच्छी कमाई करते हैं। इसके अलावा खान पान की दुकानें लगती हैं।
सुबह से शाम तक महिलाओं , पुरुषों व बच्चों का जमघट लगा रहता है।
बाबा बकेश्वर के बारे में ग्रामीणों का कहना है कि जो भी श्रद्धा भक्ति के साथ बाबा के दर में आता है उसकी सभी मनोकामनाएं पूर्ण हो जाती हैं। अब तक हजारों लोगों को बाबा की कृपा से पुत्ररत्न की प्राप्ति हो चुकी है। फांसी की सजा हो जाने  वालों की सजा माफ हो गई है। मान्यता है कि जिसने जो मांगा है उसकी मुराद पूरी हुई है।

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां