फतेहपुर हुआ 193 वे साल का धूमधाम से केक काट मनी वर्षगाँठ



 बागबादशाही खजुहा


बावनी इमली यहाँ अंग्रेजों ने 52 क्रांतिकारियों को फांसी पर लटका दिया  था

[ रवीन्र्द त्रिपाठी ]
फतेहपुर, 10 नवम्बर। फतेहपुर जनपद की रविवार को 193 वीं वर्षगांठ केक काट कर धूमधाम से मनाया गया। इस मौके पर अनेक स्थानों पर कार्यक्रम हुए है। वक्ताओं ने 10 नवम्बर 1826 को स्थापित हुए अपने जिले की गरिमा और इतिहास के बारे में बताया। गौरवशाली जनपद के 193 साल हो जाने पर दीप प्रज्जवलित किया गया। जिला प्रशासन ने भी जनपद के स्थापना दिवस में कार्यक्रम का आयोजन किया।
फतेहपुर प्रयागराज मंडल का  अति महत्वपूर्ण जनपद है। अपने जनपद में गंगा यमुना तहजीब के साथ साथ गौरवमयी इतिहास का गवाह है।जनपद में अनेक स्थान हैं जिनका पौराणिक ग्रंथों में उल्लेख मिलता है ।भिटौरा,असनी, अश्वस्थामा की नगरी अशोथर व छोटी काशी शिवराजपुर आदि ऐसे स्थान है जिनको धार्मिक दृष्टिकोण से अहम माना जाता है। ऐतिहासिक दस्तावेजों में भी फतेहपुर का विशेष दर्जा है। चाहे मुगल कालीन हो या ब्रिटिस कालीन हो।औरंगजब की पवेलियन और स्वतंत्रता सेनानियों के बलिदान की गाथा का प्रतीक बावनी इमली हो।
ऐसे ही अनेक स्मृतियों वाले जनपद फतेहपुर के साहित्कारों, कलमकारों, स्वयं  सेवी संस्थाओं,प्रशासनिक अधिकारियों ने
 संकल्प लिया  कि अपने जिले का स्थापना दिवस हर वर्ष मनाया जाएगा। जिससे जनपद वासियों को गरिमा के बारे में पूरी जानकारी हो जाए।
गंगा बचाओ संघर्ष समिति के अध्यक्ष शैलेन्द्र शरन सिम्पल ने कहाकि जनपद के 193 वर्ष पूरे होने पर दीप प्रज्जवलित किया। उपस्थित लोगों ने जिले के गौरवशाली इतिहास के बारे में चर्चा भी की। स्थापना दिवस पर अनेक स्थानों पर कार्यक्रम संपन्न हुए।

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां